रविवार, 16 अगस्त 2009

'' ज्योतिष्य -विज्ञान का अध्ययन - 2 '' [[ ए स्टडी इन ज्योतिष्य विज्ञानं ]]

'' ज्योतिष्य -विज्ञान का अध्ययन - 2 ''
[[ स्टडी इन ज्योतिष्य विज्ञानं ]]
" ज्योतिषीय ग्रहों के गुण धर्म " [1]
[[ The Natures & Siganificances of Astrologicale Planets ]]

आईये अब ज्योतिष्य-विज्ञानं का अध्ययन आरंभ करते हैं |सर्वप्रथम मैं ही आप की ओर से एक प्रश्न हवा में उछलता हूँ ,:--

" जातकी - ज्योतिष्य का कार्य- आधार क्या है "?

उत्तर तो मुझे ही देना हैं !

वास्तव में '' जातकी- ज्योतिष्य '' का जो कार्य - आधार है , लगभग वही सम्पूर्ण फलित ज्योतिष्य का कार्य-आधार भी है |

" किसी विशिष्ट काल-खंड या समय पर ,यथा ''किसी के जन्म - समय पर '' जन्म-स्थान से सुदूर अन्तरिक्ष में देखने पर किसी पूर्व निर्धारित विन्दु जिसे ज्योतिष्य में '' भचक्र अथवा राशिः - चक्र '' कहा गया है '' , के सापेक्ष नौ [ 9 ] ज्योतिषीय ग्रह जिस -जिस राशिः की सीध में दिखें उस ग्रह को तात्कालिक रूप से उसी राशिः में स्थित मान कर , तथा उस स्थान- विशेष [[ जो यहाँ पर जन्म-स्थान कहा गया है ]] के सटीक ''गणितीय '' पूर्वीय-क्षितिज [[ Horizen ]] पर राशिः- चक्र [12 राशियों के चक्र ] की जो भी राशिः उदित हो रही होती है उसे केन्द्र बना अर्थात आरम्भिक बिन्दु [[ लग्न या Ascendant ]] मान , बारह [ 12 ] विभागों का एक चक्र बना कर ही और इस में '' 9 वों '' ज्योतिष्य ग्रहों की सापेक्षिक स्थिति का , पर्यावरण , वातावरण , समाज तथा व्यक्तियों एवं व्यक्तित्वों पर पड़ने वाले हर संभावित प्रभावों का भूत : वर्तमान : भविष्य के परिपेक्ष्य में आकलन करने पर प्राप्त अन्तिम निष्कर्षों के आधार पर फलित सार कहना ही ' जाताकी - ज्योतिष्य ' का कार्य-आधार है |"

उपरोक्त से स्पष्ट है कि जातकी ज्योतिष्य एवं ज्योतिष्य के '' तीन आधार स्तम्भ है , जो क्रमशः
[ 1 ] नौ ( 9 ) ज्योतिषीय ग्रह ,
[ 2 ] बारह ( 12 ) भावों का भाव चक्र जिसमें लग्न प्रथम भाव होता है तथा
[ 3 ] बारह ( 12 ) राशियों का भचक्र या राशिः चक्र ;
किसी भी जन्मांग में किसी भी ग्रह की स्थिति इस प्रकार बताई जाती है ,'' अमुक ग्रह ( ग्रह का नाम ) , अमुक राशिः ( राशिः का नाम ) का हो कर ,जन्म लग्न से अमुक ग्रह ( लग्न से गणना करने पर ''जो भाव क्रमांक '' आवे , लग्न को शामिल करते हुए ) में बैठा है |
आईये अब ज्योतिषीय ग्रहों के '' गुण : धर्म और कारकत्व '' के बारे में विस्तार से अध्ययन करेंगे ,::---

उपरोक्त अध्ययन से आप को यह तो स्पष्ट हो ही गया होगा कि ज्योतिष्य के अध्ययन में ग्रह ही सर्वोपरि हैं |
अतः आवश्यक है कि यदि :
हम ज्योतिष्य में पारंगत होना चाहते हैं तो सर्वप्रथम हमें ज्योतिषीय ग्रहों सेपरिचित होना पड़ेगा | मात्र परस्पर परिचित होना ही पर्याप्त नही होगा ,
''उनसे अभिन्न - मित्रता गांठनी होगी '' ,
कि आप काल - पटल पर लिखी उनकी हस्तलिपि मात्र ही पढ़ने में सक्षम न हो जायें वरन जब भी आप परस्पर मिलें तो प्रसन्नता पूर्वक आपस में बातें कर सकें 'वे आप से बोलने को सदैव उत्सुक रहें ' तत्पर रहें
क्या ऐसा सम्भव है ? ? ?

जी हाँ ऐसा सम्भव है !!! कोशिश तो कर के तो देखिये !!! अरे कोई कठिन नही बहुत ही आसान है ? हाँ इस के लिए आप को अपने शौक या रूचि को '' ज़ुनून '' की हद तक :सीमा तक ले जाना होगा ; क्या आप तैय्यार हैं ? ? ?

आशा है कि अब तक आप के और मेरे बीच एक संवाद- सेतु अवश्य स्थापित हो चुका होगा और आप मेरी शैली से भी परिचित हो कर उस से तादाम्य भी बैठा चुके होंगें , यदि कहीं कोई तथ्य समझ में न आवे , कहीं कोई शंका उठे तो बेहिचक संपर्क करें टिप्पणी बॉक्स है ही !! हाँ गति कुछ धीमी ही रखूंगा , कुछ तो जानते - बूझते हुए और कुछ अपनी अपरिहार्य बाध्यताओं के कारणों से !!

एक सत्य और तथ्य अभी से सहेज लें तो उचित होगा
'' [ १ ]- मेहनत : परिश्रम : लेबर आप को करना है
[ २ ]-और इतने मात्र को पढ़ लेने भर से आप ज्योतिषाचार्य नही बन जायेंगे
[ ३ ]-कुछ भारतीय ज्योतिष्य की कुछ शास्त्रीय ( क्लास्सिकल ) , और कुछ आधुनिक ज्योतिष्य विज्ञानं कि पुस्तकों की भी आवश्यकता पड़ेगी जिनका अध्ययन आप को स्वयम् मेरे इन आलेखों के प्रकाश में करना पड़ेगा , शंका - समाधान करने का भरसक प्रयत्न करूँगा ,
प्रतीक्षा करें तीसरी कड़ी '' ज्योतिष्य -विज्ञान का अध्ययन - 3 " का
क्रमशः



.

2 टिप्पणियाँ:

alka sarwat ने कहा…

चलिए आप हमें ग्रहों से (प्रकृति से) मित्रता करना सिखा रहे हैं ,आज के आधुनिक लोगो के पास तो खुद से भी मित्रता करने का समय नहीं है , मैंने तो आज तक पौधों से ही दोस्ती की है ,अब ग्रहों से भी दोस्ती करूंगी

alka sarwat ने कहा…

मुख्य पृष्ठ की क्षमा पार्थना अच्छी नहीं लगी ,कृपया उसे हटा दें क्योंकि हमें आपसे अभी बहुत कुछ सीखना है ,
अभी आपको बहुत जीना है
जन्म दिन मुबारक

एक टिप्पणी भेजें | Feed

एक टिप्पणी भेजें



 

समर्थक

' ' कालचक्र :: अन्योनास्ति ' ' {kaalchakra} Copyright © 2009 Premium Blogger Dashboard Designed by SAER